Connect with us

घोषणा: उत्तराखंड में इस पार्टी ने रच दिया इतिहास, हर कोई कर रहा इस फैसले की चर्चा…

उत्तराखंड

घोषणा: उत्तराखंड में इस पार्टी ने रच दिया इतिहास, हर कोई कर रहा इस फैसले की चर्चा…

देहरादून: आखिरकार कांग्रेस आलाकमान ने लंबी मशक्कत के बाद उत्तराखंड में प्रदेश अध्यक्ष व नेता विधायक दल समेत महत्वपूर्ण पदों पर वरिष्ठ नेताओं की ताजपोशी कर दी है। इसके साथ ही चुनाव के लिए कमर कसते हुए 10 समितियों की भी घोषणा कर दी। लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है जब उत्तराखंड में किसी राजनीतिक दल ने पांच प्रदेश अध्यक्षों को मैदान में उतारा है। इससे पहले किसी भी पार्टी ने चार प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष नहीं बनाए। कांग्रेस हरीश रावत के चेहरे पर ही चुनाव की घोषणा कर चुकी है।

बता दें कि गुरुवार देर रात कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल द्वारा जारी सूची के अनुसार प्रदेश कांग्रेस चुनाव प्रचार समिति की कमान पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को सौंपी है। इसमें राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा को उपाध्यक्ष व दिनेश अग्रवाल को संयोजक बनाया गया है।  कांग्रेस की डूबती नैया को बचाने के लिए कांग्रेस आलाकमान ने पांच प्रदेश अध्यक्षों को मैदान में उतारकर नया प्रयोग करते हुए इतिहास बना दिया है। कांग्रेस संयुक्त रूप से चुनाव लड़ने का एलान कर चुकी है। जिसके लिए आगामी चुनाव से पहले कांग्रेस ने संगठनात्मक फेरबदल में हर खेमे को तरजीह देकर संतुलन साधने की कोशिश की है।  2022 के लिए कांग्रेस आलाकमान ने गणेश गोदियाल को संगठन की कमान सौंपी है। पहली बार गोदियाल को अध्यक्ष पद मिला है। पार्टी के सभी पूर्व मंत्रियों, विधायक के साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को संगठन में किसी न किसी रूप में जिम्मेदारी सौंपी गई है।

यह भी पढ़ें 👉  Big Breaking: देहरादून में दिन दहाड़े 15 वर्षीय छात्रा की हत्या, आरोपी ने बोला...

गौरतलब है कि कांग्रेस ने हमेशा से ही गढ़वाल और कुमाऊं के बीच संतुलन के साथ ही जातीय समीकरणों का हमेशा ध्यान रखा। वर्ष 2000 में भाजपा की अंतरिम सरकार के समय नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी ब्राह्मण नेता डॉ. इंदिरा हृदयेश को दी गई तो प्रदेश अध्यक्ष हरीश रावत बने। 2002 में कांग्रेस सत्ता में रही। 2007 में कांग्रेस विपक्ष में बैठी। तब नेता प्रतिपक्ष की कमान गढ़वाल के ठाकुर नेता डॉ. हरक सिंह रावत को सौंपी गई। कुमाऊं से प्रदेश अध्यक्ष हरीश रावत के बाद यशपाल आर्य को संगठन की कमान सौंपी गई। इसके बाद बात करे 2017 की तो कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह बनाए गए तब नेता प्रतिपक्ष की बागडोर डॉ. इंदिरा हृदयेश के हाथों में सौंपी गई।लेकिन 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने प्रदेश अध्यक्षों का नया इतिहास बना दिया।

यह भी पढ़ें 👉  Big News: उत्तराखंड विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए इस IFS अधिकारी ने लिया VRS, जानिए क्यों लड़ेंगे चुनाव...

 

Latest News -
Continue Reading
Advertisement

More in उत्तराखंड

Advertisement

उत्तराखंड

उत्तराखंड
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

देश

देश
Our YouTube Channel

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

To Top
8 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap