Connect with us

श्रद्धांजलिः हिंदी साहित्य जगत में हुई बड़ी क्षति, प्रख्यात लेखिका मन्नू भंडारी नहीं रहीं…

दिल्ली

श्रद्धांजलिः हिंदी साहित्य जगत में हुई बड़ी क्षति, प्रख्यात लेखिका मन्नू भंडारी नहीं रहीं…

दिल्लीः देश के साहित्य जगत में आज बड़ी क्षति हुई। जानी-मानी लेखिका मन्नू भंडारी ने 90 साल की आयु में दुनिया को अलविदा कह दिया। वह करीब 10 दिन से बीमार थीं। उनका हरियाणा के गुरुग्राम के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था, जहां आज दोपहर को उन्होंने अंतिम श्वांस ली। उनके निधन की जैसी ही जानकारी हुई साहित्य जगत में शोक की लहर दौड़ गई है। तमाम साहित्यकारों, पत्रकारों, फिल्मी दुनिया और राजनीति से जुड़े लोगों ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है। सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि देने वाले लोगों का तांता लग गया है।

यह भी पढ़ें 👉  नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ, अपनी बेबाक पत्रकारिता के लिए जाने जाते थे...

बता दें कि हिंदी के सुप्रसिद्ध साहित्यकार दिवंगत राजेंद्र यादव की धर्मपत्नी मन्नू भंडारी के लिखी गई किताबों पर कई हिंदी फिल्में भी बनी थी। प्रसिद्ध साहित्यकार मन्नू भंडारी ने अपनी कहानियों से लेकर उपन्यास लेखने के लिए एक अलग पहचान बनाई। सच्ची घटनाओं और पात्रों को केंद्र में रखकर उन्होंने हर उपन्यास में, हर कहानी में जो साहित्यिक तानाबाना बुना उसमें सच्चाई, जीवन मूल्यों, पारिवारिक संबंधों और सामाजिक मान्यताओं का आईना मिलता आता है। मन्नू भंडारी का जन्म मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले के भानपुरा गांव में 3 अप्रैल, 1931 को हुआ था। उनके माता-पिता ने उन्हें महेंद्र कुमारी नाम दिया था। लेकिन लिखने पढ़ने वाले पेशे में आने के बाद उन्होंने अपना नाम बदलकर मन्नू कर दिया।

यह भी पढ़ें 👉  नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ, अपनी बेबाक पत्रकारिता के लिए जाने जाते थे...
Ad

दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस कॉलेज में मन्नू भंडारी ने लंबे समय तक पढ़ाने का काम भी किया। मन्नू भंडारी की किताबों पर फिल्में भी बनी हैं। उनकी कहानी ‘यही सच है’ पर 1974 में ‘रजनीगंधा’ फिल्म बनाई गई। बासु चटर्जी ने इस फिल्म को बनाया था। ‘आपका बंटी’ उनकी मशहूर रचनाओं में से एक है। इसके अलावा मैं हार गई’, ‘तीन निगाहों की एक तस्वीर’, ‘एक प्लेट सैलाब’, ‘यही सच है’, ‘आंखों देखा झूठ’ और ‘त्रिशंकु’ ‘जैसी कालजयी रचनाएं लिखी हैं। मन्नू भंडारी को उनकी साहित्यिक उपलब्धियों के लिए शिखर सम्मान समेत कई बड़े अवॉर्ड मिले। उन्होंने भारतीय भाषा परिषद कोलकाता, राजस्थान संगीत नाटक अकादमी, उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान के पुरस्कार हासिल किए।

यह भी पढ़ें 👉  नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ, अपनी बेबाक पत्रकारिता के लिए जाने जाते थे...

Ad
Latest News -
Continue Reading
Advertisement

More in दिल्ली

Advertisement

उत्तराखंड

उत्तराखंड
Advertisement
Advertisement Ad
Advertisement Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

देश

देश
Our YouTube Channel

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

To Top
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap